IBM ने बनाई 2000 सूर्य की ऊर्जा इकट्ठा करने वाली तकनीक

IBM ने बनाई 2000 सूर्य की ऊर्जा इकट्ठा करने वाली तकनीक

एचसीपीवीटी सिस्टम पूरी दुनिया के लिए सतत ऊर्जा और फ्रेश वाटर (ताजा पानी) उपलब्ध करा सकता है।कैसा है एचसीपीवीटीएक सेंटीमीटर गुना एक सेंटीमीटर की चिप सूर्य प्रकाश के क्षेत्र (सनी रीजन) में प्रतिदिन आठ घंटे में औसतन 200-250 वाट ऊर्जा में बदल सकता है।

एचसीपीवीटी सिस्टम में 90 डिग्री सेल्सियस तापमान वाला पानी एक छिद्रयुक्त छन्नी (मेंब्रेन) डिस्टिलेशन सिस्टम से गुजरता है, जहां यह पानी वाष्पीकृत होकर नमक रहित होता है। इसके जरिए प्रतिदिन प्रति वर्ग मीटर रिसीवर एरिया से 30-40 लीटर पेयजल प्राप्त किया जा सकता है। साथ ही प्रतिदिन दो किलोवाट बिजली भी प्राप्त की जा सकती है।

इसका बड़े पैमाने पर इस्तेमाल कर एक छोटे शहर के पर्याप्त पानी उपलब्ध कराया जा सकता है। फोटो वोल्टिक चिप्सइस तकनीक में सूर्य की ऊर्जा सैकड़ों छोटे सोलर सेल सोखते हैं, जिन्हें फोटो वोल्टिक चिप्स कहा जाता है। ये ऊर्जा इकट्ठी करते हैं, जिसे पानी के सूक्ष्म प्रवाह के जरिए ठंडा किया जाता है। इस प्रकार यह सुरक्षित तरीके से बड़ी मात्रा में ऊर्जा को इकट्ठा कर पाता है।

क्या होंगे फायदे

ग्रीनपीस के अनुसार यह तकनीकी अक्षय ऊर्जा उद्योग में तीसरी बड़ी भूमिका निभा सकती है। 2009 में प्रकाशित एक शोध अध्ययन के मुताबिक सौर ऊर्जा न्यूनतम जगह में पूरी दुनिया की ऊर्जा जरूरतों को पूरा कर सकता है। ग्रीनपीस के एक अनुमान के मुताबिक सहारा रेगिस्तान की महज दो फीसदी जमीन के इस्तेमाल से पूरी दुनिया में बिजली की आपूर्ति हो सकती है।

मौजूदा सोलर क्लेक्टर के साथ दिक्कतें ये हैं कि वे न्यूनतम मात्रा में ही ऊर्जा ले सकती हैं। इसका मतलब यह कि बहुत सारी उपयोगी उष्मा ऊर्जा बेकार चली जाती हैं। लेकिन इस नई तकनीकी से यह समस्या समाप्त हो जाएगी। सोलर पैनल के ज्यादा मात्रा में ऊर्जा इकट्ठा करने का खतरा यह है कि पैनल पिघल जाता है। लेकिन उस दिशा में लगातार हो रहे प्रयोग से स्थितियां बदल रही हैं।

इससे इतना तो तय है कि पुराने तकनीक को छोड़कर नई, स्वच्छ तथा हरित तकनीक अपनाने का समय आ गया है। इस परियोजना के लिए स्विस कमीशन फॉर टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन धन मुहैया करा रहा है। वह इस नई तकनीक को विकसित करने को तीन साल के लिए 24 लाख डॉलर दे रहा है। प्रोटोटाइप विकसित कर लिया गया और अब उसका परीक्षण चल रहा है।

Vote: 
No votes yet

New Science news Updates

icon Total views
नदी में बसे सहस्त्रलिंगो का रहस्य नदी में बसे सहस्त्रलिंगो का रहस्य 2,568
स्मार्टवॉच से लीक हो सकता है आपका डॉटा स्मार्टवॉच से लीक हो सकता है आपका डॉटा 1,571
चोरी के अनाधिकृत वीडियो अपलोड करना होगा मुश्किल चोरी के अनाधिकृत वीडियो अपलोड करना होगा मुश्किल 1,786
सांस लेने के आकृति को शाब्दिक रूप देने की  डिवाइस सांस लेने के आकृति को शाब्दिक रूप देने की डिवाइस 1,582
फेसबुक के लिए फ्री इंटरनेट ऐप लाया रिलायंस फेसबुक के लिए फ्री इंटरनेट ऐप लाया रिलायंस 1,488
जब पृथ्वी पर अधिकतर प्रजातियां नष्ट हो गईं... जब पृथ्वी पर अधिकतर प्रजातियां नष्ट हो गईं... 2,075
ग्लास डिस्क ग्लास डिस्क' पर अरबों साल तक स्टोर रहेंगे डेटा 1,774
झील जहाँ 'दुनिया ख़त्म हो' जाती है ! झील जहाँ 'दुनिया ख़त्म हो' जाती है ! 5,161
wi-fi  से 100 गुना तेज़ है li-fi wi-fi से 100 गुना तेज़ है li-fi 3,588
वाई-फाई के माध्यम से लोगों की सटीक गिनती वाई-फाई के माध्यम से लोगों की सटीक गिनती 1,706
क्या आप जानते है कि कुत्ते मुस्कुराते भी हैं क्या आप जानते है कि कुत्ते मुस्कुराते भी हैं 641
क्या हुवा जब Nasa ने एक बंदर को Space मे भेजा ? 542
क्या शुक्र ग्रह में कभी इंसान रहते थे ? जानिए शुक्र ग्रह के इतिहास को क्या शुक्र ग्रह में कभी इंसान रहते थे ? जानिए शुक्र ग्रह के इतिहास को 557
प्लूटो के साथ क्या हुआ क्या प्लूटो अब नही रहा ? प्लूटो के साथ क्या हुआ क्या प्लूटो अब नही रहा ? 599
फ्रंट कैमरा युक्‍त स्मार्टफोन दुनिया का पहला डुएल फ्रंट कैमरा युक्‍त स्मार्टफोन 1,604
गूगल ग्‍लास नया गूगल ग्‍लास : बिना कांच के 3,285
पृथ्वी के भीतर हो सकते हैं महासागर पृथ्वी के भीतर हैं महासागर जाने विस्तार से 7,463
नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? 2,530
बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण 2,226
मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | 2,481