विज्ञान एवं तकनीकी समाचार

अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं?

अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं?

अंग्रेज़ी में एक कहावत है कि 'मैन आर फ़्रॉम मार्स, वीमेन आर फ़्रॉम वीनस' यानी पुरुष मंगल ग्रह से और महिलाएं शुक्र से आई हैं. लेकिन इन दोनों के मस्तिष्क पर हुए एक अध्ययन का मानना है कि एक मायने में यह सही हो सकता है.

एक ताज़ा अध्ययन में पाया गया है कि पुरुषों और महिलाओं के मस्तिष्क की बुनावट इस क़दर भिन्न है कि लगता है कि दोनों ही अलग-अलग ग्रह की प्रजातियां हैं.

पुरुषों के मस्तिष्क की बुनावट आगे से पीछे की ओर होती है और दोनों हिस्सों को जोड़ने के लिए कुछ ही तंतु होते हैं जबकि महिलाओं के मस्तिष्क में तंतु बाएं से दाहिने और दाहिने से बाएं तिरछे एकदूसरे से जुड़े रहते हैं. Read More : अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? about अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं?

आने वाला है नोकिया D1C एंड्रॉयड स्मार्टफोन

आने वाला है नोकिया D1C एंड्रॉयड स्मार्टफोन

नोकिया के 2017 में स्मार्टफोन बाजार में वापस लौटने की उम्मीद है। और कंपनी ने अगले साल दो या तीन नए डिवाइस पेश कर सकती है। इनमें से एक नोकिया डी1सी हो सकता है। हाल ही में इस स्मार्टफोन के स्पेसिफिकेशन का पता चला था। अब, ताजा लीक तस्वीरों में इस स्मार्टफोन के डिज़ाइन का खुलासा हो गया है और इससे पता चलता है कि नोकिया के मोबाइल डिवाइस पर वाकई काम चल रहा है। Read More : आने वाला है नोकिया D1C एंड्रॉयड स्मार्टफोन about आने वाला है नोकिया D1C एंड्रॉयड स्मार्टफोन

मोदी जी ने लांच की भीम (BHIM)ऐप जो बिना इंटरनेट करेगी काम

मोदी जी ने लांच की भीम (BHIM)ऐप जो बिना इंटरनेट करेगी काम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने तथा उसे आसान बनाने के लिए यहां 'डिजीधन मेला' में शुक्रवार को आधार आधारित एप लॉन्च किया। इस एप का नाम भीम है (भारत इंटरफेस फॉर मनी), जो यूपीआई (यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस) तथा यूएसएसडी (अनस्ट्रक्चर्ड सप्लिमेंटरी सर्विस डेटा) का नया संस्करण है।

एप लॉन्चिंग के मौके पर मोदी ने कहा कि भीम एप का इस्तेमाल करना बेहद आसान है और इसे चलाने के लिए अंगूठा ही काफी है। मोदी ने कहा कि सरकार एक नया सिक्योरिटी फीचर लॉन्च करने पर काम कर रही है, जिसका इस्तेमाल कर बिना फोन या इंटरनेट के लेनदेन किया जा सकेगा। Read More : मोदी जी ने लांच की भीम (BHIM)ऐप जो बिना इंटरनेट करेगी काम about मोदी जी ने लांच की भीम (BHIM)ऐप जो बिना इंटरनेट करेगी काम

क्या आपके पास भी आएगा रिलायंस जियो का बिलः ऐसे लगाएं पता

क्या आपके पास भी आएगा रिलायंस जियो का बिलः ऐसे लगाएं पता

एक वक्त ऐसा था कि रिलायंस जियो 4G सिम पाने के लिए लोग रात-रात भर रिलायंस डिजिटल स्टोर के बाद लाइन लगाए रहते थे और अब मुफ्त में इसकी होम डिलीवरी भी की जा रही है।जियो यूजर्स के लिए खुशखबरीः जियो सिनेमा ऐप पर डाउनलोड करें फ्री फिल्में

मुंबई

एक वक्त ऐसा था कि रिलायंस जियो 4G सिम पाने के लिए लोग रात-रात भर रिलायंस डिजिटल स्टोर के बाद लाइन लगाए रहते थे और अब मुफ्त में इसकी होम डिलीवरी भी की जा रही है। लेकिन अब तक जिन करोड़ों यूजर्स ने जियो सिम ले लिया है, उन्हें यह जरूर पता होना चाहिए कि हैप्पी न्यू ईयर ऑफर खत्म होने के बाद क्या उनके पास बिल आएगा, या नहीं। Read More : क्या आपके पास भी आएगा रिलायंस जियो का बिलः ऐसे लगाएं पता about क्या आपके पास भी आएगा रिलायंस जियो का बिलः ऐसे लगाएं पता

क्या है नोमोफोबिया

नोमोफोबिया

असल में फोबिया शब्द जो है वो ग्रीक भाषा के एक शब्द हाइड्रोफीबिया से आया है जिसका मतलब होता है पानी से सम्पर्क में आने का मानसिक भय और फोबिया किसी भी तरह का हो सकता है जिसका मतलब है अगर हमे किसी चीज़ का फोबिया है तो हम उस चीज़ के लिए मानसिक तौर पर थोड़े असहज है इसे किसी भी स्थान वस्तु या गतिविधि से जोड़ा जा सकता है और हमारी तकनीक की सदी यानि के इक्कीसवी सदी हो है उसमे टेक्नोलोज़ी के बढ़ते इस्तेमाल ने मानवीय जीवन को सुगम बनाने के साथ साथ कई तरह की मानसिक समस्याएं हमे सौगात में दी है जिसमे से नोमोबिया भी एक है और मेल ऑनलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक हम में से ६६ प्रतिश Read More : क्या है नोमोफोबिया about क्या है नोमोफोबिया

पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़

पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़

पुराने स्मार्टफ़ोन को घर के लिए सिक्योरिटी कैमरा बना सकते हैं. ये तो आपने सुना और पढ़ा होगा. ऐसा करना बहुत आसान है और घर के लिए वो काम की चीज़ होती है. लेकिन पुराने स्मार्टफ़ोन को कई और काम में लाया जा सकता है.
आइए कुछ ऐसे तरीके से इस्तेमाल करने के तरीके आपको बताते हैं. सिक्योरिटी कैमरा और घर के डिवाइस के मीडिया कंट्रोलर के अलावा ये स्मार्टफ़ोन कई और काम आ सकते हैं.
Read More : पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ about पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़

सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज

सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज

क्‍या सेल्‍फी से किसी की पर्सनालिटी का पता लगाया जा सकता है। एक ताजा रिसर्च की मानें तो जरूर पता लगाया जा सकता है। सिंगापुर की नैनयांग टेक्‍नीकल यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च में यह पता चला है कि सेल्‍फी से व्‍यक्ति की शख्सियत का पता लगाया जा सकता है।

शोधकर्ताओं का दावा है कि सेल्‍फी में दिखने वाले शख्‍स का चेहरा, सेल्‍फी लेने वाला स्‍थान और फोटो के एंगल से किसी उसकी पर्सनालिटी तथा कई अन्‍य जानकारियों के बारे में पता किया जा सकता है। Read More : सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज about सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज

आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी

आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी

लंदन। क्या कभी सोचा है कि दांतों को ब्रश करने जैसी एक सामान्य आदत मजेदार भी बन सकती है? नहीं न! पर यह संभव है।

दरअसल, एक नई स्टडी के अनुसार एक ऐसा ऐप है, जो आपके दांत साफ करने की प्रक्रिया यानि ब्रशिंग टीथ को नौजवानों के लिए न केवल रोचक बनाता है, बल्कि यूजर्स की डेंटल हायजीन को भी इम्प्रूव करता है।

'ब्रश डीजे' नामक इस टूथब्रश टाइमर ऐप से जब आप ब्रश करते हैं, तो यह ऐप 2 मिनट तक आपकी ब्रशिंग के दौरान सबसे अच्छा म्युजिक बजाता है, जोकि यूजर्स की अपनी डिवाइस या फिर क्लाउड की प्लेलिस्ट से लिया गया होता है। Read More : आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी about आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी

मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध

मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध

मुर्गी की गंध आपको मलेरिया से बचा सकती है
मुर्गी की गंध मलेरिया से आपका बचाव कर सकती है.
इथिओपिया और स्वीडन के वैज्ञानिकों के अध्ययन के मुताबिक़ मलेरिया फैलाने वाले मच्छर चिकन और दूसरे पक्षियों से दूर भागते हैं.
पश्चिमी इथिओपिया में किए गए एक शोध में मच्छरदानी में सोए हुए एक शख़्स के पास पिंजड़े में मुर्गी रखी गई.
संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक़ अफ्रीक़ा में पिछले साल मलेरिया से चार लाख लोगों की मौत हुई.
Read More : मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध about मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध

लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी

लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी

मेलबॉर्न| आज के पक्षी कल के डायनोसोर थे, यह बात थोड़ी अजीब लगती है। लेकिन एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि डायनोसोर पांच करोड़ वर्षो की क्रमिक विकास प्रक्रिया के दौरान पक्षी में रूपांतरित हो गए। आज के पक्षी का पूर्वज डायनोसोर की थेरोपॉड प्रजाति है।

अपने अस्तित्व को बनाए रखने में डायनोसोर की केवल यही प्रजाति कामयाब रही, क्योंकि अपने आकार को यह लगातार छोटा करता गया।
ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड विश्वविद्यालय के माइकल ली ने कहा, “डायनोसॉर के लघु रूपांतरण की अनोखी प्रक्रिया से ही पक्षियों का विकास हुआ। Read More : लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी about लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी

Pages