अब बिना बैटरी चलेगा स्‍मार्टफोन !

अब बिना बैटरी चलेगा स्‍मार्टफोन !

स्मार्टफोन यूजर्स के लिए फोन की बैटरी से जुड़ी परेशानी नई नहीं है। लेकिन अब साइंटिस्ट ने आपकी इस परेशानी का हल खोज लिया है। साइंटिस्ट की रिसर्च में सामने आया कि अब मोबाइल बैटरी के बिना भी काम करेंगे। ये फोन बैकस्कैटर टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं और बैटरी की जगह रेडियो सिग्नल के जरिए कनेक्टेड रहेंगे। साइंटिस्ट ने अपने इस रिसर्च का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें बिना बैटरी के फोन के जरिए साइंटिस्ट को कॉलिंग करते हुए देखा जा सकता है।

सोने का अनियमित वक्त मानसिक कार्यक्षमता को प्रभावित करता है

रात को देर तक जागने से आपको हो सकती है ये गंभीर बीमारी

अगर आप भी देर रात तक जागते हैं तो सावधान हो जाएं। एक ताजा शोध में पता चला है कि जो लोग देर से सोते हैं, उनके मनोरोगी या फिर मानसिक बीमारी से ग्रस्त होने की संभावना ज्यादा होती है। ऐसे लोग अपने सनक भरे विचारों पर ज्यादा नियंत्रण नहीं रख पाते।

न्यूयॉर्क, अमेरिका की बिंघैटम यूनिवर्सिटी में मनोविज्ञान की प्रोफेसर मेरेडिथ कोल्स ने कहा, 'हमनें पाया कि गलत वक्त पर सोने पर कुछ सुनिश्चित नकारात्मक परिणाम होते हैं, इसके लिए लोगों को जागरूक करने की जरूरत है।'

स्मार्टफ़ोन है तो लिखने की ज़रुरत नहीं

स्मार्टफ़ोन है तो लिखने की ज़रुरत नहीं

स्मार्टफ़ोन है तो लिखने की ज़रुरत नहीं
किसी भी जगह अगर कुछ लिखना है तो उसके लिए अब कॉपी और कलम नहीं चाहिए.
एंड्राइड स्मार्टफोन पर गूगल कीप किसी के भी काम आ सकता है.
डिजिटल दुनिया में किसी भी बात को याद रखने का ये सबसे आसान तरीका है.
गूगल कीप इस्तेमाल करना बहुत आसान है. अपनी आवाज़ में कोई भी बात रिकॉर्ड कर लीजिये और फिर, अगर आप चाहें, तो वो खुद ही लिखे हुए शब्द में ट्रांसक्राइब हो जाएगा.
अपनी आवाज़ में कुछ भी रिकॉर्ड करने के लिए होम स्क्रीन पर 'गूगल नाउ' का इस्तेमाल कीजिये और 'माइक' को क्लिक करके रिकॉर्डिंग शुरू कर दीजिये.

केंद्र -जम्मू-कश्मीर में खुलेंगे 2 एम्स

केंद्र -जम्मू-कश्मीर में खुलेंगे 2 एम्स

श्रीनगर। जम्मू एवं कश्मीर सरकार ने गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार ने राज्य में दो अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) खोलने की मंजूरी दे दी है। राज्य विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) विधायक राजीव जसरोटिया के सवाल का जवाब देते हुए स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा मंत्री बाली भगत ने कहा कि राज्य सरकार को पिछले महीने इस मंजूरी की जानकारी मिली।
भगत ने कहा कि राज्य सरकार ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतीपुरा और जम्मू क्षेत्र के सांबा जिले में एम्स के लिए जगह दे दी है।

Pages