मिडिया

फिज़िका माइंड पोर्टल में आपका हार्दिक स्वागत है ,फिज़िका माइंड आपका अपना वेब पोर्टल है इस वेबसाइट में आप हमें समाज से जुडी न्यूज़, कृषि से जुडी न्यूज़ , शिक्षा,समाज न्यूज़ पेपर कटिंग , न्यूज़ के विडियो क्लिप भेज सकते है समाज से जुडी सभी जानकारियो को एक ही जगह समाहित करने का प्रयास किया गया है।

Read more

घरबैठे कंप्यूटर सर्टिफिकेट कोर्स

फिजिका माइड भारत सरकार के लघुरूप सुक्षम मंत्रालय से पंजीकृत संस्था है | संस्था २००४ से सेवा में प्रयासरत है | फिज़िका माइंड के द्वारा अब आप घर बैठे कंप्यूटर के सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं जो कि आपको लेटेस्ट ज्ञान से भरपूर होगा और सबसे एडवांस टेक्नोलॉजी को आप सीखेंगे|

Read more

व्यापार में सफलता के उपाय

आप की कामयाबी को ही हम अपनी कामयाबी मानते हैं आपके व्यापार को सफल बनाने के लिए फिज़िका माइंड आपके लिए वेबसाइट और Android ऐप बनाना चाहता है , और भी बहुत सारे मार्केटिंग के उपाय हमारे पास आप के लिए हैं | हमारी सफलता का कारवां बढ़ता ही जा रहा है जिसमें आपका भी स्वागत है

Read more

अजवाइन के फायदे

अजवाइन के फायदे

अजवाइन (Ajwain) को हमने हमेशा ही घरों में मसाले के रूप में उपयोग करते हुए देखा है। लेकिन इसमें मौजूद कैल्शियम, पोटैशियम, फास्फोरस, आयोडीन, केरोटिन जैसे तत्व हमें कई हेल्थ बेनिफिट्स देते हैं। अगर नियमित रूप से सुबह आधा चम्मच अजवाइन उबालकर पिएंगे तो कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओ को दूर किया जा सकता है अगर आपको अपना बचपन याद हो तो आपने कभी ना कभी पेट का समस्या होने पर अजवाइन का सेवन जरुर किया होगा अजवाइन के फायदे बहुत है जिनका उपयोग कर आप बहुत सारी समस्याओ से बच सकते है Read More : अजवाइन के फायदे about अजवाइन के फायदे

कद्दू के औषधीय गुण

कद्दू के औषधीय

कद्दू का रस भी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह मूत्रवर्धक होता है और पेट संबंधी गड़बड़ियों में भी लाभकारी रहताहै। यह खून में शर्करा की मात्रा को नियंत्रित करने में सहायक होता है और अग्नयाशय को भी सक्रिय करता है। इसी वजह से चिकित्सक मधुमेह के रोगियों को कद्दू के सेवन की सलाह देते हैं। Read More : कद्दू के औषधीय गुण about कद्दू के औषधीय गुण

अजवायन की खेती कैसे करे

अजवायन की खेती कैसे करे

भूमि अजवाइन एक रबी की मसाला फसल हैं। इसकी खेती के लिए अच्छे जल निकास वाली दोमट मिटटी सर्वोत्तम होती हैं। सामान्यतः बलुई दोमट मिटटी जिसका पि.एच. मान 6.5 से 8.2 तक है, में अजवाइन सफलतापूर्वक उगाई जा सकती हैं। जहां भूमि में नमी कम हो वहां सिंचाई की व्यवस्था आवश्यक हैं।

 
खेती की तैयारी: खेत तैयार करने के लिए मिटटी पलटने वाले हल से जुताई करें तथा इसके बाद 2 जुताई देशी हल से कर खेत को भली-भांति तैयार करें। अजवाइन का बीज बारीक़ होता हैं। अतः खेत की मिट्टी को अच्छी तरह भरभूरा होने तक जुताई करें। Read More : अजवायन की खेती कैसे करे about अजवायन की खेती कैसे करे

शिवलिंगी बीज एक आयुर्वेदिक औषधि हैं

शिवलिंगी बीज एक आयुर्वेदिक औषधि हैं

शिवलिंगी बीज एक आयुर्वेदिक औषधि हैं जिसका घटक सिर्फ एक बीज ही हैं और वो हैं ब्रयोनोप्सिस लेसिनियोसा का बीज जिसे समान्यतया शिवलिंगी कहा जाता हैं। शिवलिंगी बीज का प्रयोग पुरे देश में प्रजनन क्षमता बढ़ाने और स्त्रियों के रोग विकारो को दूर करने के लिए किया जाता हैं,इसका प्रयोग स्वस्थ बच्चे के जन्म के लिए भी किया जाता हैं। इसके अलावा शिवलिंगी बीज लिवर, श्वसन, पाचन तंत्र, गठिया, चयापचय विकारों और संक्रामक रोगों के लिए भी लाभदायक हैं,साथ में इसके सेवन से इम्युनिटी भी बढ़ती हैं। महिलायो में बाँझपन की समस्या मुख्यता हार्मोन्स के असन्तुलन की वजह से होती हैं पर शिवलिंगी बीज हार्मोन्स का संतुलन बनाये रखन Read More : शिवलिंगी बीज एक आयुर्वेदिक औषधि हैं about शिवलिंगी बीज एक आयुर्वेदिक औषधि हैं

नाभि का टलना दूर करता है सुप्तवज्रासन

सुप्त वज्रासन क्या है, सुप्त वज्रासन की परिभाषा, सुप्तवीरासन, अर्ध हलासन का महत्व, मत्स्यासन, सुप्त वज्रासन for diabetes, गोमुखासन, वज्रासन का अर्थ

सुप्त का अर्थ होता है सोया हुआ अर्थात वज्रासन की स्थिति में सोया हुआ। इस आसन में पीठ के बल लेटना पड़ता है, इसिलिए इस आसन को सुप्त-वज्रासन कहते है, जबकि वज्रासन बैठकर किया जाता है

विधिः 

१.      वज्रासन में बैठकर हाथों को पाश्व भाग में रखकर उनकी सहायता से शरीर को पीछे झुकाते हुए भूमि पर सर को टिका दीजिये। घुटने मिले हुए हों तथा भूमि पर ठीके हुए हों। 
२.      धीरे-धीरे  कंधो,ग्रीवा एवं पीठ को भूमि पर टिकाने का प्रयत्न कीजिये।  हाथों को जंघाओं पर सीधा रखे। 
३.      आसन को छोड़ते समय कोहनियों एवं हाथों का सहारा लेते हुये वज्रासन में बैठ जाइए।  Read More : नाभि का टलना दूर करता है सुप्तवज्रासन about नाभि का टलना दूर करता है सुप्तवज्रासन

तिल तेल अमृत

तिल तेल अमृत

तिल के तेल में इतनी ताकत होती है कि यह पत्थर को भी चीर देता है. प्रयोग करके देखें.... 
आप पर्वत का पत्थर लिजिए और उसमे कटोरी के जैसा खडडा बना लिजिए, उसमे पानी, दुध, धी या तेजाब संसार में कोई सा भी कैमिकल, ऐसिड डाल दीजिए, पत्थर में वैसा की वैसा ही रहेगा, कही नहीं जायेगा... 
लेकिन... अगर आप ने उस कटोरी नुमा पत्थर में तिल का तेल डाल दीजिए, उस खड्डे में भर दिजिये.. 2 दिन बाद आप देखेंगे कि, तिल का तेल... पत्थर के अन्दर भी प्रवेश करके, पत्थर के नीचे आ जायेगा. यह होती है तेल की ताकत, इस तेल की मालिश करने से हड्डियों को पार करता हुआ, हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है. Read More : तिल तेल अमृत about तिल तेल अमृत

उच्च रक्तचाप सामान्य करे शवासन

उच्च रक्तचाप के लिए मुद्रा, उच्च रक्तचाप के लिए आहार, उच्च रक्तचाप के लिए घरेलू उपचार, लो ब्लड प्रेशर के लिए योग, योग फॉर हाई ब्लड प्रेशर, हाई बीपी के लिए योग, रक्तचाप दूर भगाओ, हाई बीपी के लिए क्या करें

शव का अर्थ होता है मृत अर्थात अपने शरीर को शव के समान बना लेने के कारण ही इस आसन को शवासन कहा जाता है। यह दो शब्दों के योग से बना है, शव + आसन = शव आसन या शवासन। इस आसन को रोज 20 मिनट तक करने से दिमाग शांत हो जाता है, सारी चिंताए मिट जाती हैं और उच्‍च रक्‍तचाप सामान्‍य हो जाता है। यह एक शिथिल करने वाला आसन है और शरीर, मन, और आत्मा को नवस्फूर्ति प्रदान करता है। ध्यान लगाने के लिए इसका सुझाव नहीं दिया जाता क्योंकि इससे नींद आ सकती है। शवासन एक मात्र ऐसा आसन है, जिसे हर आयुवर्ग के लोग कर सकते हैं। यह सरल भी है। आइये और जानते हैं कि यह आसन किस विधि से किया जाता है और इसके क्‍या क्‍या लाभ होते ह Read More : उच्च रक्तचाप सामान्य करे शवासन about उच्च रक्तचाप सामान्य करे शवासन

नदी में बसे सहस्त्रलिंगो का रहस्य

नदी में बसे सहस्त्रलिंगो का रहस्य

इतिहास में पहली बार -भारतीय नदी में  छिपे रहस्ये !
भारत के कर्नाटक राज्य की शिकरी नदी का जल स्तर नीचा हो जाने से नदी में बसे हजारों शिवलिंगों का उदभव हुआ.
हजारो लिंगो को नदी का जल स्तर कम होने पर देखा गया
शिव जो हिन्दुओ में सबसे लोक प्रिये और परिचित देव हैं. अधिकतर मंदिरों में शिवलिंग स्थापित हैं. यह शक्ति और ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है। 
शिवलिंग की पूजा केवल भारत तक ही सीमित नहीं था। शिवलिंग रोमन जो यूरोपीय देशों के लिए शिवलिंग की पूजा की जाती है
Read More : नदी में बसे सहस्त्रलिंगो का रहस्य about नदी में बसे सहस्त्रलिंगो का रहस्य

Pages