कौशल भारत कुशल भारतप्रधानमंत्री कौशल विकास योजना

कौशल भारत कुशल भारत

मिडिया

फिज़िका माइंड पोर्टल में आपका हार्दिक स्वागत है ,फिज़िका माइंड आपका अपना वेब पोर्टल है इस वेबसाइट में आप हमें समाज से जुडी न्यूज़, कृषि से जुडी न्यूज़ , शिक्षा,समाज न्यूज़ पेपर कटिंग , न्यूज़ के विडियो क्लिप भेज सकते है समाज से जुडी सभी जानकारियो को एक ही जगह समाहित करने का प्रयास किया गया है।

Read more

घरबैठे कंप्यूटर सर्टिफिकेट कोर्स

फिजिका माइड भारत सरकार के लघुरूप सुक्षम मंत्रालय से पंजीकृत संस्था है | संस्था २००४ से सेवा में प्रयासरत है | फिज़िका माइंड के द्वारा अब आप घर बैठे कंप्यूटर के सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं जो कि आपको लेटेस्ट ज्ञान से भरपूर होगा और सबसे एडवांस टेक्नोलॉजी को आप सीखेंगे|

Read more

व्यापार में सफलता के उपाय

आप की कामयाबी को ही हम अपनी कामयाबी मानते हैं आपके व्यापार को सफल बनाने के लिए फिज़िका माइंड आपके लिए वेबसाइट और Android ऐप बनाना चाहता है , और भी बहुत सारे मार्केटिंग के उपाय हमारे पास आप के लिए हैं | हमारी सफलता का कारवां बढ़ता ही जा रहा है जिसमें आपका भी स्वागत है

Read more

दमा से राहत दिलाए योग व प्राणायाम

अस्थमा के लिये योग दमा का घरेलू उपचार अस्थमा के लिए घरेलू नुस्खे अस्थमा फॉर योग अस्थमा का कारण बनता है अस्थमा की दवाई योग फॉर अस्थमा इन हिंदी अस्थमा के लिए आहार

दमा की यह कहावत अब पुरानी हो चुकी है कि दमा दम लेकर ही दूर होता है। दमा को श्वास रोग कहते हैं। दमा के रोगियों में सांस नली चौड़ी होने के बजाय सिकुड़ जाती है। सांस नली में पड़ी कार्बन डाई ऑक्साइड बाहर नहीं निकल पाती है और रोगी को बलपूर्वक एवं कठिनाई से उसे निकालने का प्रयास करना पड़ता है। परन्तु योग ने यह सिद्ध कर दिया है कि उन्हें भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। दमे के रोगियों के लिए कुछ खास योगों में गोमुखासन और सूर्यभेदी प्राणायाम अत्यन्त लाभदायक है।
गोमुखासन
Read More : दमा से राहत दिलाए योग व प्राणायाम about दमा से राहत दिलाए योग व प्राणायाम

नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है।

नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है।

हिन्दू मतानुसार मोक्ष प्राप्ति मानव जीवन का लक्ष्य है। नाद-साधन (म्यूजिकल साउँड) भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। नाद-साधन के लिये ऐकाग्रता, मन की पवित्रता, तथा निरन्तर साधना की आवश्यक्ता है जो योग के ही अंग हैं। आनन्द की अनुभूति ही संगीत साधना की प्राकाष्ठा है। संगीत के लिये भक्ति भावना अति सहायक है इस लिये संगीत आरम्भ से ही मन्दिरों, कीर्तनों (डिस्को), तथा सामूहिक परम्पराओं के साथ जुडा रहा है। भारत का अनुसरण करते हुये पाश्चात्य देशों में भी संगीत का आरम्भ और विकास चर्च के आँगन से ही हुआ था फिर वह नाट्यशालाओं में विकसित हुआ, और फिर जनसाधारण के साथ लोकप्रिय संगीत (पापुलर अथवा पाप म्यूज़िक) Read More : नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। about नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है।

योग आसन दूर करे पेट में बनने वाली गैस की परेशानियों को, जानकर हैरान

योग आसन दूर करे पेट में बनने वाली गैस की परेशानियों को, जानकर हैरान

आइए जानें योगासन से क्या -क्या लाभ है 

आज जो योगआसान हम आपको बताने वाले हैं, उससे आपको गैस तथा एसीडिटी दोनों से राहत मिलेगी। एक बात जिसका आपको खास ख्‍याल रखना है, वह ये कि योगा करने से पहले पानी बिल्‍कुल भी ना पियें। इस योगा से आपके पेट पर गहरा असर पडे़गा। इन नीचे दिये योग आसन को रोजाना सुबह के समय करें, जिससे आपको कभी पेट में गैस की समस्‍या ना झेलनी पडे़। Read More : योग आसन दूर करे पेट में बनने वाली गैस की परेशानियों को, जानकर हैरान about योग आसन दूर करे पेट में बनने वाली गैस की परेशानियों को, जानकर हैरान

भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर

भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर

पाश्चात्य संगीत की थ्योरी के जनक का श्रेय यूनानी दार्शनिक अरस्तु को जाता है जो ईसा से 300 वर्ष पूर्व हुये थे। अब पिछले कई वर्षों से पाश्चात्य संगीतज्ञ्य भारतीय संगीत की परम्पराओं में दिलचस्पी ले रहे हैं। 22 श्रुतियों के भारतीय सप्तक को उन्हों नें 24 अणु स्वरों (माईक्रोटोन्स) में बाँटने की कोशिश भी करी है। वास्तव में उन्हों ने अपने 12 सेमीटोन्स को दुगुणा कर दिया है। उस के लिये ऐक नया ‘की-बोर्ड’ (पियानो की तरह का वाद्य) बनाया गया था जिस में ऐक सफेद और ऐक काला परदा (की) जोडा गया था परन्तु वह प्रयोग सफल नहीं हुआ। इस की तुलना में भारत के उच्च कोटि के वादक और गायक 22 श्रुतियों का सक्ष्मता के साथ Read More : भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर about भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर

नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं –

नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं –

नृतः केवल नृत्य है जिस में शारीरिक मुद्राओं का कलात्मिक प्रदर्शन है किन्तु उन में किसी भाव का होना आवश्यक नहीं। यही आजकल का ऐरोबिक नृत्य है।
नृत्य में भाव-दर्शन की प्रधानता है जिस में चेहरे, भंगिमाओं तथा मुद्राओं का प्रयोग किया जाता है।
नाट्य में शब्दों और वार्तालाप तथा संवाद को भी शामिल किया जाता है।
भारत में कई शास्त्रीय नृत्य की की शैलियाँ हैं जिन में ‘भरत-नाट्यम’, ‘कथक’, ‘कथकली’, ‘मणिपुरी’, ‘कुचीपुडी’ मुख्य हैं लेकिन उन सब का विस्तरित वर्णन यहाँ प्रसंगिक नहीं। Read More : नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – about नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं –

स्मार्टफ़ोन बिगाड़ रहा है आंखों की सेहत जानिए कैसे

स्मार्टफ़ोन अब स्मार्टनेस का स्टेटस सिंबल बन चुका है. लेकिन यही स्मार्टफ़ोन अब धीरे-धीरे आंखों के स्मार्टनेस को ख़त्म करने का कारण भी बनता जा रहा है. Read More : स्मार्टफ़ोन बिगाड़ रहा है आंखों की सेहत जानिए कैसे about स्मार्टफ़ोन बिगाड़ रहा है आंखों की सेहत जानिए कैसे

दूर करे घुटने और कोहिनी का कालापन

1-नींबू के रस में साइट्रिक एसिड होता है. नींबू का इस्तेमाल आप नैचुरल ब्लीच के रूप में कर सकते है. नींबू के रस के इस्तेमाल से कोहनी और घुटने का कालापन दूर हो जाता है. नींबू को अच्छी तरह निचोड़कर उसका रस निकाल लें. इसमें कुछ मात्रा में चीनी मिला दें. इस मिश्रण को धीरे-धीरे कोहनी पर मलें और कुछ देर के लिए यूं ही छोड़ दें. जब ये सूख जाए तो गुनगुने पानी से इसे धो लें. आप चाहें तो नींबू को काटकर उसे ही अपनी कोहनी पर मल सकते हैं. Read More : दूर करे घुटने और कोहिनी का कालापन about दूर करे घुटने और कोहिनी का कालापन

उत्तर प्रदेश असिस्टेंट टीचर रिक्रूटमेंट -2018

 

 महत्वपूर्ण तिथि

आवेदन की आरंभ  तिथि यह  –

25 जनवरी 2018

आवेदन की अंतिम  तिथि –

5 फरवरी 2018

 परीक्षा तिथि –

12 मार्च 2018

फीस

जनरल/ओबीसी – रू 600/-

एससी /एसटी  – रू  400/-

आवेदन शुल्क ऑनलाइन जमा करना है

 

Job Location ( स्थान )

उत्तर प्रदेश

Pages