पृथ्वी के भीतर हैं महासागर जाने विस्तार से

पृथ्वी के भीतर हो सकते हैं महासागर

एक हीरे के अंदर पाई गई रहस्यपूर्ण चट्टान ने इस सवाल को अहम बनाया कि पृथ्वी की सतह के नीचे क्या-क्या छिपा है.

इस रहस्यपूर्ण चट्टान में पानी के कण मिलना महत्वपूर्ण खोज थी. ये चट्टानें हमें बताती हैं कि पृथ्वी के भीतर, सतह के 500-600 किलोमीटर नीचे सदियों पहले क्या हुआ. और वहां क्या मौजूद है.

वैज्ञानिक दशकों से इन सवालों से जूझ रहे हैं कि पृथ्वी पर पानी कैसे आया, महासागर कैसे बनें और क्या पृथ्वी की सतह के नीचे और महासागर छिपे हुए हैं?

अब तक मनुष्य ने पृथ्वी की सतह के नीचे जो सबसे गहरा गड्ढ़ा बनाया है वो 10 किलोमीटर तक ही पहुँच पाया है.

हवा से बिजली तैयार हो सकेगी

हवा से बिजली तैयार हो सकेगी

हवा से मुफ़्त में बिजली बनाना, एक फंतासी जैसा लगता है लेकिन व्यवसायी और पूर्व वैज्ञानिक लॉर्ड ड्रेसन ने लंदन के रॉयल इंस्टीट्यूशन में एक ऐसी ही तकनीक का प्रदर्शन किया.

उनका दावा है कि फ़्रीवोल्ट नामक यह टक्नोलॉजी हवा में मौजूद तरंगों की ऊर्जा को इस्तेमाल कर बहुत कम उर्जा से चलने वाले उपकरणों जैसे सेंसरों को बिजली मुहैया कराई जा सकती है.

असल में इस टेक्नोलॉजी में हवा में 4जी और डिज़िटल टेलीविज़न की रेडियो तरंगों की ऊर्जा का इस्तेमाल होता है.

जानिए मुंबई में किसने ख़रीदी दाऊद इब्राहिम की संपत्तियां

दाऊद इब्राहिम

भारत के वांछित अपराधी दाऊद इब्राहिम की मुंबई में ज़ब्त की गईं तीन संपत्तियां दशकों बाद आख़िरकार मंगलवार को नीलाम हो गईं.

मुंबई के भिंडी बाज़ार इलाक़े में स्थित ये संपत्तियां सैफ़ी बुरहानी अपलिफ़्टमेंट ट्रंस्ट ने मुंबई के आईएमसी चैंबर ऑफ कॉर्मस एंड इंडस्ट्री में हुई नीलामी में हासिल की हैं. ये ट्रस्ट ही इन संपत्तियों की देखभाल कर रही थी.

जांच एजेंसी सीबीआई ने साल 1993 में मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के बाद दाऊद इब्राहिम कास्कर की कुल दस संपत्तियां ज़ब्त की थीं.

इनमें से तीन- रौनक अफ़रोज़ होटल, डम्बरवाला बिल्डिंग और शबनम गेस्ट हाउस की मंगलवार को नीलामी की गई.

कौन है हार्दिक पटेल, जिसने मोदी को दी चुनौती

केवल 22 साल की उम्र में गुजरात सरकार की नींद उड़ा देने वाले हार्दिक पटेल को दो महीने पहले तक कोई नहीं जानता था, लेकिन आज देश की गली गली और सोशल मीडिया पर उनकी ख़ासी चर्चा है।

गुजरात के अहमदाबाद में मंगलवार को पाटीदार समाज की महारैली में लाखों की संख्या में लोग पहुंचे। पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के नेतृत्व में आयोजित इस महारैली में लाखों पाटीदार समाज के लोग इकट्ठे हुए हैं। यह समाज राज्य सरकार से 27 प्रतिशत आरक्षण की मांग कर रहा है।

आइए जानते हैं, कौन हैं हार्दिक पटेल और क्यों उनके आगे गुजरात की सांसें थम गई हैं।

योग से पाएं खतरनाक रोगों पर नियंत्रण

योग के लाभ, योग के प्रकार और फायदे, योगा क्या है, योगा प्रकार, योग के फायदे हिंदी में, benefits of yoga in hindi, आसन के लाभ, योग का महत्व

किसी कठिन और थका देने वाली दो-ढाई घंटे लंबी कसरत के बजाय बीस से तीस मिनट तक किया जाने वाला योगाभ्यास ज्यादा कारगर होता है। कसरत में फिर भी नुकसान की गुंजाइश रहती है क्योंकि पता नहीं शरीर में कौन सा रोग पल रहा है और की जा रही कसरत अपने दबाव से उस रोग को बढ़ा या बिगाड़ दे।

शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व

शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व

हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत में समयानुसार गायन प्रस्तुत करने की पद्धति है, तथा उत्तर भारतीय संगीत-पद्धति में रागों के गायन-वादन के विषय में समय का सिध्दांत प्राचीन काल से ही चला आ रहा है, जिसे हमारे प्राचीन पंडितों ने दो भागों में विभाजित किया है। प्रथम भाग दिन के बारह बजे से रात्रि के बारह बजे तक और दूसरा रात्रि के बारह बजे से दिन के बारह बजे तक माना गया है। इसमें प्रथम भाग को पूर्व भाग और दुसरे को उत्तर भाग कहा जाता है। इन भागों में जिन रागों का प्रयोग होता है, उन्हें सांगीतिक भाषा में “पूर्वांगवादी राग” और “उत्तरांगवादी राग” भी कहते है। जिन रागों का वादी स्वर जब सप्तक के पूर्वांग अर्थात

Pages