रागों मे जातियां

रागों मे जातियां

राग विवरण मे सुनते है अमुक राग अमुक जाति का है। "जाति" शब्द राग मे प्रयोग किये जाने वाले स्वरों की संख्या का बोध कराती है । रागों मे जातियां उनके आरोह तथा अवरोह मे प्रयोग होने वाले स्वरों की संख्या पर निर्धारित होती है।

दामोदर पंडित द्वारा रचित संगीत दर्पण मे कहा गया है……

ओडव: पंचभि:प्रोक्त: स्वरै: षडभिश्च षाडवा।
सम्पूर्ण सप्तभिर्ज्ञेय एवं रागास्त्रिधा मत: ॥

संगीत शास्त्र परिचय

संगीत के स्वर, संगीत की परिभाषा, संगीत का अर्थ, संगीत के राग, भारतीय शास्त्रीय संगीत, गमक के प्रकार, संगीत किसे कहते हैं, आलाप की परिभाषा

भारतीय संगीत से, सम्पूर्ण भारतवर्ष की गायन वादन कला का बोध होता है। भारतीय शास्त्रीय संगीत की 2 प्रणालियाँ हैं। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति अथवा कर्नाटक संगीत प्रणाली और दूसरी हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली, जो कि समुचे उत्तर भारतवर्ष मे प्रचलित है। दक्षिण भारतीय संगीत कलात्मक खूबियों से परिपूर्ण है। और उसमें जनता जनार्दन को आकर्षित करने की और समाज मे संगीत कला की मौलिक विधियों द्वारा कलात्मक संस्कार करने की क्षमता है।

अकबर और तानसेन

अकबर और तानसेन

एक बार अकबर अपने दरबार में तानसेन द्वारा गायन सुन रहे थे गायन सुनने के पश्चात अकबर बोले, "तानसेन आपसे अच्छा भी कोई गायन करता है" तानसेन ने जवाब दिया, "जी महाराज, मेरे गुरुजी" अकबर ने कहा, "तानसेन जी के गुरु को दरबार में पेश किया जाए" तानसेन ने जवाब दिया, "महाराज गुरुजी यहां नहीं आ पाएंगे अगर आपको गायन सुनना है तो आपको गुरुजी के पास चलना होगा अकबर को थोड़ा बुरा लगा लेकिन वह गायन सुनने के शौकीन थे वह तानसेन के साथ उनके गुरु जी से मिलने चले गए" वहां पहुंचे तो देखागुरुजी समाधि में बैठे हुए थे अब गायन कैसे हो गा सवाल यह था कभी तानसेन जी आश्रम में बैठकर गलत गलत राग गाने लगे गलत बात सुनकर गुरु जी

ये है ‘रागिनी एमएमएस रिटर्न्स’ की एक्ट्रेस का Bold फोटोशूट, Internet पर हो रहा है Viral

टेलीविजन एक्ट्रेस करिश्मा शर्मा इन दिनों बेहद बोल्ड तेवर अपनाए हुए हैं. वे एक के बाद एक अपने बोल्ड फोटो शूट इंटरनेट पर डाल रही हैं, और सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर सनसनी बनी हुई हैं. ‘पवित्र रिश्ता’ और ‘यह है मोहब्बतें’ में अपने काम से वाहवाही बटोर चुकी करिश्मा शर्मा वेब सीरीज ‘रागिनी एमएमएस रिटर्न्स’ में रागिनी का किरदार निभा रही हैं. जब से इस किरदार को लेकर घोषणा हुई है, उसके बाद से उन्होंने अपने बोल्ड तेवर दिखाए हैं. रागिनी एमएमएस सीरीज सनी लियोन की वजह से पहले ही काफी हॉट रह चुकी है. अब करिश्मा के हाथ यह सीरीज लगी है तो वे कोई कसर नहीं छोड़ रही है.

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की रिलीज टालने की याचिका, अब सेंसर बोर्ड के हाथ में फैसला

रानी padmavati, रानी पद्मावती हिस्ट्री इन हिंदी, पद्मावती की कहानी, पद्मावती का इतिहास, रानी पद्मावती मूवी, रानी पद्मावती की कहानी, पद्मावती मूवी स्टोरी, पद्मावती फिल्म

इस याचिका में ये भी आरोप लगाया गया था कि डायरेक्टर ने इसे बनाने में कुछ ज्यादा ही स्वतंत्रता ली है और तथ्यों के साथ छेड़छाड़ किया है. याचिका में कहा गया कि फिल्म के गाने में रानी पद्मावती घूमर डांस करती नजर आ रही हैं, जबकि राजघराने की रानियां घमूर और ठुमके नहीं लगाती थीं. इसके साथ ही दीपिका के कॉस्टयूम पर भी सवाल उठाया गया है. इस याचिका में कहा गया है कि पद्मावती के बारे में पूरी जानकारी हासिल कर लेने के बाद ही फिल्म को रिलीज किया जाए.

नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज।

नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज।

्रिम नाद उत्पन्न करता है। संगीत दामोदर में नाद तीन प्रकार का माना गया है—प्राणिभव, अप्राणिभव और उभयसंभव। जो सुख आदि अंगों से उत्पन्न किया जाता है वह प्राणिभव, जो वीणा आदि से निकलता है वह अप्राणिभव और जो बाँसुरी से निकाला जाता है वह उभय- संभव है। नाद के बिना गीत, स्वर, राग आदि कुछ भी संभव नहीं। ज्ञान भी उसके बिना नहीं हो सकता। अतः नाद परज्योति वा ब्रह्मरुप है और सारा जगत् नादात्मक है। इस दृष्टि से नाद दो प्रकार का है— आहत और अनाहत। अनाहत नाद को केवल योगी ही सुन सकते हैं। इठयोग दीपिका में लिखा है कि जिनको तत्वबोध न हो सके वे नादोपासना करें। अँतस्थ नाद सुनने के लिये चाहिए कि एकाग्रचित होकर शां

Pages