मिडिया

फिज़िका माइंड पोर्टल में आपका हार्दिक स्वागत है ,फिज़िका माइंड आपका अपना वेब पोर्टल है इस वेबसाइट में आप हमें समाज से जुडी न्यूज़, कृषि से जुडी न्यूज़ , शिक्षा,समाज न्यूज़ पेपर कटिंग , न्यूज़ के विडियो क्लिप भेज सकते है समाज से जुडी सभी जानकारियो को एक ही जगह समाहित करने का प्रयास किया गया है।

Read more

घरबैठे कंप्यूटर सर्टिफिकेट कोर्स

फिजिका माइड भारत सरकार के लघुरूप सुक्षम मंत्रालय से पंजीकृत संस्था है | संस्था २००४ से सेवा में प्रयासरत है | फिज़िका माइंड के द्वारा अब आप घर बैठे कंप्यूटर के सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं जो कि आपको लेटेस्ट ज्ञान से भरपूर होगा और सबसे एडवांस टेक्नोलॉजी को आप सीखेंगे|

Read more

व्यापार में सफलता के उपाय

आप की कामयाबी को ही हम अपनी कामयाबी मानते हैं आपके व्यापार को सफल बनाने के लिए फिज़िका माइंड आपके लिए वेबसाइट और Android ऐप बनाना चाहता है , और भी बहुत सारे मार्केटिंग के उपाय हमारे पास आप के लिए हैं | हमारी सफलता का कारवां बढ़ता ही जा रहा है जिसमें आपका भी स्वागत है

Read more

योग-एक संक्षिप्त परिचय

योग का परिचय, योग के उद्देश्य, योग की परिभाषा दीजिये, योग का इतिहास, योग क्या है परिभाषा, योग शिक्षा का उद्देश्य, भारत में योग का इतिहास, योग शिक्षा का अर्थ

योग से अर्थ योग=जोड़

मन या आत्मा का जुड़ाव परमात्मा से 
परमात्मा से अर्थ सिर्फ ईश्वर ही न समझे अपितु

परमात्मा=परम(उच्च)+आत्मा(ज्ञान का प्रकाशक)
"इस ब्रह्माण्ड मे सर्वोच्च स्थान ज्ञान का ही तो है" Read More : योग-एक संक्षिप्त परिचय about योग-एक संक्षिप्त परिचय

हृदय की बीमारी

हृदय रोग मराठी, हृदय रोग के उपचार, रुमेटिक हृदय रोग, हृदय रोग से बचाव, हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर, महिलाओं में हृदय रोग के लक्षण, कोरोनरी धमनी रोग के लक्षण, जन्मजात हृदय रोग परिभाषा

हृदय की बीमारी*

*आयुर्वेदिक इलाज !!*

हमारे देश भारत मे 3000 साल पहले एक बहुत बड़े ऋषि हुये थे

उनका नाम था *महाऋषि वागवट जी !!*

उन्होने एक पुस्तक लिखी थी

जिसका नाम है *अष्टांग हृदयम!!*

और इस पुस्तक मे उन्होने ने
बीमारियो को ठीक करने के लिए *7000* सूत्र लिखे थे !

यह उनमे से ही एक सूत्र है !!

वागवट जी लिखते है कि कभी भी हृदय को घात हो रहा है !

मतलब दिल की नलियों मे blockage होना शुरू हो रहा है !

तो इसका मतलब है कि रकत (blood) मे acidity(अम्लता ) बढ़ी हुई है !

अम्लता आप समझते है ! Read More : हृदय की बीमारी about हृदय की बीमारी

लहसुन से भी ज्‍यादा ताकतवर है अंकुरित लहसुन

लहसुन से भी ज्‍यादा ताकतवर है अंकुरित लहसुन

लोग हजारों वर्षो से लहसुन का प्रयोग चिकित्सा में करते आ रहे हैं। क्‍या आप जानते हैं कि अंकुरित लहसुन खाने से कोलेस्ट्रॉल, रक्तचाप और दिल की बीमारियों के खतरे को प्राकृतिक तौर पर कम किया जा सकता है?

यह तो बहुत से लोग जानते हैं कि लहसुन, खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ स्वास्थ्यवर्धक भी होता है। एक नए अध्ययन में यह पता चला है कि अंकुरित लहसुन या अंकुर फूटे हुए पुराने लहसुन में ताजे लहसुन की अपेक्षा एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि अधिक होती है,जो दिल की सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है। Read More : लहसुन से भी ज्‍यादा ताकतवर है अंकुरित लहसुन about लहसुन से भी ज्‍यादा ताकतवर है अंकुरित लहसुन

टाइफाइड बुखार

टाइफाइड बुखार

टाइफाइड कोई आसान बुखार नही होता।
इसका नाम ही विषम ज्वर या मियादी बुखार होता है, ये कभी कभी साल भर भी चलता रहता है मरीज दवा खाता है तो बुखार उतर जाता है उसके बाद फिर चढ़ जाता है।
साधारण बुखार बिगड़ कर टाइफाइड बन जाता है।
कभी कभी यही बुखार दिमाग में चढ़ कर पागलपन के दौरे का भी कारण बनता है।
इसमें शरीर पर गर्दन के आस पास और सीने पर महीन रेत की तरह चमकीले दाने उभर आते हैं जो लेंस से दिखाई देते हैं।
इस बुखार में जितना अन्न खाते हैं बुखार उतना ही बढ़ता है।
इसलिए आयुर्वेदिक् उपचार में मरीज का अन्न और नमक बंद कर दिया जाता है।
Read More : टाइफाइड बुखार about टाइफाइड बुखार

योग भगाए रोग

योग भगाए रोग रोगानुसार योग, रोग अनुसार योग, योग दिखाई, योग के अंग, योग क्या है परिभाषा, स्वामी रामदेव का योग, योग का महत्व, योग के उद्देश्य, योग रोग, रामदेव बाबा का योग दिखाई, स्वामी रामदेव, योग से रोग मुक्ति, योग और रोग

बरसात में भीगना और बीमार होना आम बात है, ऎसे में इन दिनों योगासनों के जरिए रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा कर अधिक स्वस्थ रहा जा सकता है। 

मानसून में बारिश की गिरती बूंदे अमृत के समान लगती हैं, लेकिन इन दिनों हमारी थोड़ी-सी लापरवाही कई बीमारियों का सबब बन जाती है। इन दिनों संक्रमण के कारण पेट दर्द, सर्दी, अस्थमा, त्वचा रोग, जोड़ो में दर्द आदि बीमारियों का खतरा बना रहता है। ऎसे में योग के जरिए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर इन बीमारियों से बचा जा सकता है। 

हस्त उत्तानासन Read More : योग भगाए रोग about योग भगाए रोग

प्राणायाम दो शब्द प्राण एवं आयाम से मिलकर बना है

प्राणायाम, कपालभाति प्राणायाम , अनुलोम विलोम प्राणायाम , शीतली प्राणायाम , भ्रामरी प्राणायाम , ध्यान, उज्जायी प्राणायाम प्राणायाम की परिभाषा, प्राणायाम के नियम, प्राणायाम की चार प्रक्रिया, कपालभाति प्राणायाम, योगासन और प्राणायाम में अंतर, प्राणायाम कैसे करें, भस्त्रिका प्राणायाम, अनुलोम विलोम प्राणायाम के लाभ

प्राण शब्द जीवन का पर्यायवाची है जब तक शरीर में प्राण हैं तब तक जीवन है और जैसे ही प्राण शरीर को छोड़ देते हैं शरीर मृत्यु पर हो जाता है यहां प्राण का तात्पर्य प्राणवायू से है उपनिषद एक मान्यता के अनुसार जब प्यारी संसार में आता है तो वह निश्चित मात्रा में स्वास्थ्य लेकर आता है और उतनी ही स्वास्थ्य तक जीवित रहता है यह सत्य है कि प्राणी का जीवन 19 वर्षों तक ही सीमित है प्राणी अपने शरीर की रचना के अनुसार ही श्वास तेजी अधीर ग्रहण करता है कुछ प्राणी श्वास बहुत धीरे धीरे ग्रहण करते हैं और कुछ लंबी आयु के होते हैं तो कुछ प्यारी श्वास तेजी से ग्रहण करने के कारण अल्पायु ही प्राप्त करते हैं इस प्राण Read More : प्राणायाम दो शब्द प्राण एवं आयाम से मिलकर बना है about प्राणायाम दो शब्द प्राण एवं आयाम से मिलकर बना है

ब्रेड, चिप्स और आलू को ज्यादा पकाने से बचिए. फूड वैज्ञानिकों के मुताबिक़ इससे कैंसर होने का खतरा है.

ब्रेड, चिप्स और आलू को ज्यादा पकाने से बचिए. फूड वैज्ञानिकों के मुताबिक़ इससे कैंसर होने का खतरा है.

ब्रेड, चिप्स और आलू को ज्यादा पकाने से बचिए. फूड वैज्ञानिकों के मुताबिक़ इससे कैंसर होने का खतरा है. वैज्ञानिकों का कहना है कि स्टार्च वाला खाना जब बहुत ज्यादा तापमान पर और ज्यादा देर तक सेंका, भुना, तला या ग्रिल किया जाता है तो उसमें एक्रिलामाइड नाम का रसायन पैदा होता है. एक्रिलामाइड अलग अलग तरह के खाने में मौजूद होता है. और ये खाना बनाते समय स्वाभाविक रूप से पैदा होता है. यह उन भोजन में सबसे अधिक पाया जाता है जिनमें शर्करा अधिक होता है और जो 120 डिग्री सेल्सियस तक पकाए जाते हैं. जैसे कि चिप्स, ब्रेड, सुबह नाश्ते की दालें, बिस्किट, क्रैक्स, केक और कॉफी.

  Read More : ब्रेड, चिप्स और आलू को ज्यादा पकाने से बचिए. फूड वैज्ञानिकों के मुताबिक़ इससे कैंसर होने का खतरा है. about ब्रेड, चिप्स और आलू को ज्यादा पकाने से बचिए. फूड वैज्ञानिकों के मुताबिक़ इससे कैंसर होने का खतरा है.

साप्ताहिक ध्यान : अपनी श्वास का स्मरण रखें

"अगर तुम अपनी सांस पर काबू पा सको तो अपनी भावनाओं पर काबू पा सकोगे। अवचेतन सांस की लय को बदलता रहता है, अत: अगर तुम इस लय के प्रति और उसमें होने वाले सतत बदलाव के बारे में होश से भर जाओगे तो तुम अपनी अवचेतन जड़ों के बारे में, अवचेतन की गतिविधि के बारे में सजग हो जाओगे।"

दि न्यू एल्केमी

 

 1) जब भी स्मरण हो, दिन भर गहरी सांस लो, जोर से नहीं वरन धीमी और गहरी; और शिथिलता अनुभव करो, तनाव नहीं।

  Read More : साप्ताहिक ध्यान : अपनी श्वास का स्मरण रखें about साप्ताहिक ध्यान : अपनी श्वास का स्मरण रखें

Pages