सेल्‍फी ड्रोन कैमरा के बारे में जाने

सेल्‍फी ड्रोन कैमरा के बारे में जाने

सेल्‍फी क्लिक करने के शौकीन लोगों के लिए सेल्‍फी ड्रोन कैमरा बनाया गया है। लिली नाम का यह ड्रोन कैमरा जीपीएस तकनीक युक्‍त है और यह आपकी हर कमांड को फॉलो करेगा। इतना ही नहीं, यह आपके निर्देशों की डॉक्‍यूमेंट फाइल भी बनाएगा। 

इस सेल्‍फी ड्रोन कैमरे में 1080 पिक्‍सल का 12 मेगापिक्‍सल वीडियो कैमरा लगा है, जो 25 मील प्रति घंटा की स्‍पीड से 100 फीट की ऊंचाई तक उड़ने में सक्षम है।

लिली को प्री-ऑर्डर के आधार ही बिक्री के लिए उपलब्‍ध कराया जा रहा है। इसकी कीमत 999 डॉलर रखी गई है लेकिन ट्रायल के तौर पर इसे आधी कीमत पर बेचा जा रहा है।

धरती पर सबसे पहले आया ये जीव!

वैज्ञानिकों की नई खोज, धरती पर सबसे पहले आया ये जीव!

अगर आपसे पूछा जाए कि सबसे पहले धरती पर आने वाले जीवधारियों में कौन है, तो आप सही-सही नहीं बता पाएंगे। पर वैज्ञानिकों ने अब दावा किया है कि धरती पर मछलियां सबसे पहले आईं। वो भी 409 मिलियन साल पहले। खास बात ये है कि वैज्ञानिकों को उसके अवशेष मिले हैं। ये मछली आधे फुट लंबी थी और धरती पर झील में आई थी।

वैज्ञानिकों के समूह ने साइंस एडवांस जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट में बताया है कि धरती पर आने वाली पहली मछलियों के समूह में से एक का जीवाश्म भी मिला है। इसकी हड्डियों में रीढ़ की हड्डियां मिली हैं।

नासा ने अंतरिक्ष में उगाई बंद गोभी!

नासा ने अंतरिक्ष में उगाई बंद गोभी!

अंतरिक्षयात्रियों ने लगभग एक महीने तक कोशिश करने के बाद अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र में चीनी बंदगोभी उगाई. नासा के अनुसार अंतरिक्षयात्री पेगी विटसन ने जापान की ‘तोक्यो बेकाना’ नामक चीनी गोभी उगाई.

अंतरिक्ष केंद्र के अंतरिक्षयात्रियों को इनमें से कुछ गोभी खाने के लिए मिलेंगी और बाकी नासा के केनेडी अंतरिक्ष केंद्र में वैज्ञानिक अध्ययन के लिए सुरक्षित कर लिया जाएगा.

यह अंतरिक्ष केंद्र में उगाई जाने वाली पांचवी फसल होगी अैर पहली चीनी गोभी. चीनी गोभी का चुनाव अनेक पत्तेदार सब्जियों के आकलन के बाद किया गया.

घूमने का शौक है और पैसे हैं तो अब चांद की कर आएं सैर!

घूमने का शौक है और पैसे हैं तो अब चांद की कर आएं सैर!

घूमने-फिरने के शौकीन हैं तो चांद की सैर करने का आइडिया आपको कैसा लग रहा है? दो विदेशियों को तो ये आइडिया इतना पसंद आया है कि उन्होंने 2018 में चांद की सैर के लिए अमेरिका की प्राइवेट रॉकेट कंपनी स्पेस एक्स को पैसे भी दे दिए हैं.

आपको आपका पार्टनर चांद के पार ले जाए या नहीं, चांद की सैर पर जरूर ले जा सकता है. क्योंकि चांद की सैर को मुमकिन बना रही है एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स. स्पेस एक्स को दो विदेशी सैलानियों ने चांद पर जाने के लिए एक मोटी रकम दी है.

Pages