कौशल भारत कुशल भारतप्रधानमंत्री कौशल विकास योजना

कौशल भारत कुशल भारत

मिडिया

फिज़िका माइंड पोर्टल में आपका हार्दिक स्वागत है ,फिज़िका माइंड आपका अपना वेब पोर्टल है इस वेबसाइट में आप हमें समाज से जुडी न्यूज़, कृषि से जुडी न्यूज़ , शिक्षा,समाज न्यूज़ पेपर कटिंग , न्यूज़ के विडियो क्लिप भेज सकते है समाज से जुडी सभी जानकारियो को एक ही जगह समाहित करने का प्रयास किया गया है।

Read more

घरबैठे कंप्यूटर सर्टिफिकेट कोर्स

फिजिका माइड भारत सरकार के लघुरूप सुक्षम मंत्रालय से पंजीकृत संस्था है | संस्था २००४ से सेवा में प्रयासरत है | फिज़िका माइंड के द्वारा अब आप घर बैठे कंप्यूटर के सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं जो कि आपको लेटेस्ट ज्ञान से भरपूर होगा और सबसे एडवांस टेक्नोलॉजी को आप सीखेंगे|

Read more

व्यापार में सफलता के उपाय

आप की कामयाबी को ही हम अपनी कामयाबी मानते हैं आपके व्यापार को सफल बनाने के लिए फिज़िका माइंड आपके लिए वेबसाइट और Android ऐप बनाना चाहता है , और भी बहुत सारे मार्केटिंग के उपाय हमारे पास आप के लिए हैं | हमारी सफलता का कारवां बढ़ता ही जा रहा है जिसमें आपका भी स्वागत है

Read more

ह्यूमस की प्राप्ति के दो स्रोत हैं

किसी एक भूमि में बारबार फसल के उगाने और उसमें खाद न देने से कुछ समय के बाद भूमि अनुत्पादक और ऊसर हो जाती है। भूमि की उर्वरता के नाश होने का प्रमुख कारण भूमि से उस पदार्थ का निकल जाना है जिसका नाम 'ह्यूमस (Humus) दिया गया है। ह्यूमस कार्बनिक या अखनिज पदार्थ है जिसकी उपस्थिति से ही भूमि उर्वर होती है। वस्तुतः ह्यूमस वानस्पतिक और जांतव पदार्थों के विघटन से बनता है। सामान्य हरी खाद, गोबर, कंपोस्ट इत्यादि खादों और पेड़ पौधों, जंतुओं और सूक्ष्म जीवाणुओं से यह बनता है। ह्यूमस के अभाव में मिट्टी मृत और निष्क्रिय हो जाती है और उसमें कोई पेड़ पौधे नहीं उगते।

अविश्वास प्रस्ताव गिरा ! 451 में से 335 वोट Modi सरकार के पक्ष में

संसद के मॉनसून सत्र के तीसरे दिन आज लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग हुई. इस वोटिंग में विपक्ष के 126 के मुकाबले मोदी सरकार को 325 वोट मिले. बता दें कि बुधवार को टीडीपी सांसद की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मंजूर किया था, जिसके बाद उस पर चर्चा के लिए शुक्रवार का दिन तय हुआ था.

 

UPDATES

ये रहा आंकड़ा

मोदी सरकार के पक्ष में - 325 वोट

मोदी सरकार के विपक्ष में - 126 वोट

कुल - 451 वोट

 

व्हाट्सऐप पर अफ़वाह फैलाई तो क्या होगी सज़ा

अफ़वाह फैलाई

महाराष्ट्र के धुले ज़िले के राइनपाडा गांव में रविवार को आक्रोशित भीड़ ने एक समुदाय के पांच लोगों को 'बच्चा चोर' होने के शक में पीट-पीटकर मार डाला.

ये सभी लोग घूम-घूमकर भीख मांगने के लिए सोलापुर ज़िले से आए थे और कुछ दिन पहले ही इन लोगों ने धुले ज़िले के बाहर अपना डेरा जमाया था.

ये सभी उस समय इस क्षेत्र से गुज़रे जब बच्चा चोर समूह के महाराष्ट्र पहुंचने की अफ़वाह फैल रही थी.

स्थानीय पुलिस प्रशासन ने सामूहिक हत्या के इस मामले में बच्चा चोर समूह से जुड़ी अफ़वाहों को एक वजह बताया है.

व्हाट्सऐप ने मैसेज फॉरवर्ड करने पर लगाई पाबंदियां

भारत सरकार का कहना है कि व्हाट्सऐप के ज़रिए फैले संदेशों की वजह से देश में कई लोगों की मॉब लिंचिंग हुई.

भारत सरकार के चेतावनियों के बादए व्हाट्सऐप ने मैसेज फॉरवर्ड करने के अपने नियमों में बदलाव करने का फैसला किया है.

व्हाट्सऐप ने कहा कि वो संदेशों को फॉरवर्ड करने की सीमा तय करेगा, ताकि झूठी जानकारी को फैलने से रोका जा सके.

गुरुवार को भारत सरकार ने व्हाट्सऐप को चेतावनी दी है कि अगर उसने कोई कदम नहीं उठाया तो उसे क़ानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है.

भारत व्हाट्सऐप का सबसे बड़ा बाज़ार है, यहां 20 करोड़ से ज़्यादा लोग व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करते हैं.

नीलगाय के आतंक से न हों परेशान

अन्नदाताओं को अब नीलगाय के आतंक से परेशान होने की जरूरत नहीं है। अब उन्हें बिना मारे ही इनके आतंक से छुटकारा मिलेगा, वहीं फसलों की भी सुरक्षा होगी। नीलगाय को खेतों की ओर आने से रोकने के लिए हर्बल घोल तैयार किया जाता है जिसके प्रयोग करनें से नीलगाय फसलों को नुकसान नहीं पहुचती है

अब बिना बैटरी चलेगा स्‍मार्टफोन !

अब बिना बैटरी चलेगा स्‍मार्टफोन !

स्मार्टफोन यूजर्स के लिए फोन की बैटरी से जुड़ी परेशानी नई नहीं है। लेकिन अब साइंटिस्ट ने आपकी इस परेशानी का हल खोज लिया है। साइंटिस्ट की रिसर्च में सामने आया कि अब मोबाइल बैटरी के बिना भी काम करेंगे। ये फोन बैकस्कैटर टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं और बैटरी की जगह रेडियो सिग्नल के जरिए कनेक्टेड रहेंगे। साइंटिस्ट ने अपने इस रिसर्च का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें बिना बैटरी के फोन के जरिए साइंटिस्ट को कॉलिंग करते हुए देखा जा सकता है।

फाइल्स शेयर करने की बेस्ट वेबसाइट्स

फाइल्स शेयर करने की बेस्ट वेबसाइट्स

इंटरनेट पर फाइल आदि शेयर करने के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल ईमेल या मैसेजिंग ऐप्स का किया जाता है। इनमें सबसे अधिक पॉपुलर है व्हाट्सऐप और जीमेल। गूगल की एक और सेवा गूगल ड्राइव का भी इन दिनों इस्तेमाल किया जाता है। मैसेज या ईमेल के जरिए जब हम फाइल शेयर करते हैं तो एक लिमिटेड साइज़ की फाइल शेयर कर सकते हैं। ज्यादा अधिक हैवी फाइल शेयर करने की अनुमति नहीं होती है।

हालाँकि यदि गूगल ड्राइव की बात करें तो यह फाइल शेयर करने का एक शानदार तरीका है। साथ ही यूज़र्स इस क्लाउड सर्विस में अपनी फाइल्स का बैकअप भी रख सकते हैं जो कि कहीं भी और कभी गूगल ड्राइव के माध्यम से एक्सेस की जा सकती हैं।

Coming out of Retirement

There was an engineer who had an exceptional gift for fixing all things mechanical. After serving his company loyally for over 30 years, he happily retired. Several years later the company contacted him regarding a seemingly impossible problem they were having with one of their multi-million dollar machines. They had tried everything and everyone else to get the machine to work but to no avail. In desperation, they called on the retired engineer who had solved so many of their problems in the past. The engineer reluctantly took the challenge. He spent a day studying the huge machine.

Pages