खास भारतियों के लिए बनी गूगल प्ले स्टोर पर नई केटेगरी

खास भारतियों के लिए बनी गूगल प्ले स्टोर पर नई केटेगरी

पूरनीमा कोचिकर, जो की गूगल प्ले की बिज़नस डेवलपमेंट, गेम्स एंड एप्लीकेशन की डायरेक्टर है कहा की ' हम गूगल प्ले पर सभी ऐसे देवलपअर्स को अवसर देना चाहते है जो की सक्सेसफुल लोकल बिज़नस करने की शमता रखते है"। उन्होंने यह भी कहा की गूगल प्ले देव्लोपर्स की इमेजिनेशन को सपोर्ट करता है ओर users को नये एक्सपीरियंस से रूबरू कराता है ।

हाल ही मे गूगल ने अपने पहले app एक्सीलेंस summit जो कि बेन्गालुरू मे आयोजित किया गया था, ऐसी apps के बारे मे बातें की जो की ख़ास तौर पे इंडियन ऑडियंस को ध्यान मे रख कर डेवलप की गयी है ।

इसी को देखते हुए गूगल ने ' मेड इन इंडिया" नाम का प्रोग्राम लांच किया जो की users को उनकी जरूरतों के हिसाब से apps तलाशने मे मदद करेगा ओर साथ ही साथ यह ऐसी apps बनाने वाले देवलपअर्स को उनकी ऑडियंस तक भी पहुचाएगा ।

कुनाल सोनी जो की गूगल प्ले के बिज़नस डेवलपमेंट के हेड है कहा की ज्यादातर लोग अब smartphone अफ्फोर्ड कर पाते है ओर इन्टरनेट भी यूज़ करते है लेकिन अभी भी 70 फीसदी लोग ऐसे है जो की 2G कनेक्शन ही यूज़ करते है ।

smartphone यूज़ करने वाले लोगो मे अधिकतर के डिवाइस का दाम 6500/- के आस पास ही होता है जिस कारण वे smartphone के फायदों का भरपूर लाभ नही ले पाते । उन्होंने बताया की देवेलपर्स इन्ही सब बातो को ध्यान मे रखते हुए apps डेवेलप करे ।

कुनाल सोनी ने डेवेलपर्स को कनेक्टिविटी, डिवाइस कमपेटीबिलिटी ,डाटा कोस्ट, बैटरी यूसेज, कंटेंट ओर कॉमर्स को ध्यान मे रखने को कहा ओर उन्होंने ऐसी apps बनाने का सुझाव दिया जो की ऑफलाइन मोड मे भी युजफुल हो।

डेवेलपर्स से आगे बात करते हुए कुनाल सोनी ने उन्हें बताया की मेड इन इंडिया apps ऐसी ही apps की केटेगरी होगी ओर सभी देवेलपर्स अपनी apps को रिव्यु के लिए ऑनलाइन अप्लाई कर सकते है । उन्होंने देवेलपर्स को कुछ ऐसे टेस्ट ओर टूल्स की जानकारी दी जिससे वे अपनी apps की कम्पेटिबिलिटी को टेस्ट कर पाएँगे।

कोचिकर ने आगे बढ़ते हुए कहा की गूगल हर साल इनस्टॉल की जाने वाली apps मे 150 फीसदी की इन्क्रीमेंट देखता है, इसलिये यह जरुरी है की अब लोकल apps डेवेलप हो जो लोगो की जरूरतों को ध्यान मे रख कर बनाई गयी हो । आखिरी मे उन्होंने कहा की गूगल ने users के लिए काफी आप्शन भी खोले है जैसे की users पेमेंट के लिए करीअर बिलिंग या फिर गिफ्ट कार्ड्स खरीद के कैश से भी पेमेंट कर सकते है ।

डेवेलपर्स के प्रशन की ' क्या लोग ऑनलाइन पेमेंट करते है ?" के जवाब मे उन्होंने कहा की लोग भारत मे पहले से 3x ज्यादा खर्च करते है ।

 

 

 

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894