डाउनलोड कर रहे हैं वो सेफ है या नहीं

डाउनलोड कर रहे हैं वो सेफ है या नहीं

चाहे स्मार्टफोन पर हो या लैपटॉप/डेस्कटॉप पर, यूज़र इंटरनेट का इस्तेमाल इन डिवाइस पर फाइल्स डाउनलोडिंग के लिए करते ही हैं। इनमें PDF, म्यूजिक और मूवी आदि फाइल्स सभी कुछ शामिल होता है। अपने इन डिवाइस पर यूज़र्स एंटी-वायरस के जरिए इंटरनेट और इन फाइल्स के से आने वाले मैलवेयर के खतरे को टालते हैं।

एंटी वायरस डिवाइस को सेफ रखने के लिए काफी मददगार होते हैं, हालांकि हर एंटी वायरस उतना परफेक्ट नहीं होता है। ऐसे में कई बार इंटरनेट से डाउनलोडिंग के जरिए भी कई मैलवेयर डिवाइस में आ जाते हैं। इन्हीं से बचने के लिए यह जरुरी है कि आप डाउनलोड की जाने वाली फाइल्स को देख कर डाउनलोड करें।

आज हम एक टूल के बारे में बात करेंगे, जो है वायरस टूल। यह टूल करीब 128जीबी तक की फाइल अपलोड करने की अनुमति देता है। इसके बाद इस पर करीब 50 स्कैनर काम करते हैं जो आपकी फाइल को पूरी तरह से चेक करते हैं और देखते हैं कि कहीं इसमें मैलवेयर, ट्रोजन या कोई और वायरस तो नहीं हैं।

यह टूल सभी स्कैनिंग इंजन का मिक्स है, जैसे Bitdefender, Kaspersky, Avast, McAfee, Malwarebytes व और भी कई। जब आपकी फाइल स्कैन हो जाएगी तब आपको स्टेटस चेच करना होगा यह जानने के लिए कि कितने प्रॉब्लम डिटेक्ट हुई हैं। इस पर एक 'safe-o-meter' भी होता है जो आपको डिटेल जानकारी देगा, जिसकी आपको जरुरत होगी।

ऐसे करें चेक

मोज़िला फायरफॉक्स और क्रोम यूज़र्स आप उपलब्ध अतिरिक्त Add-ons डाउनलोड कर सकते हैं, जो कि आपको तब चेतावनी देंगे जब आप कोई इन्फेक्टेड वेबसाइट visit करेंगे.

इसके अलावा, आप जिस वेबसाइट के बारे में चेक करना चाहते हैं उसका URL पेस्ट करके चेक कर सकते हैं. अपने टूल्स का इस्तेमाल करके यह आपको जल्दी से बता देगा कि आपकी साईट क्लीन है या नहीं है.

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894