व्हाट्सऐप ने मैसेज फॉरवर्ड करने पर लगाई पाबंदियां

भारत सरकार का कहना है कि व्हाट्सऐप के ज़रिए फैले संदेशों की वजह से देश में कई लोगों की मॉब लिंचिंग हुई.

भारत सरकार के चेतावनियों के बादए व्हाट्सऐप ने मैसेज फॉरवर्ड करने के अपने नियमों में बदलाव करने का फैसला किया है.

व्हाट्सऐप ने कहा कि वो संदेशों को फॉरवर्ड करने की सीमा तय करेगा, ताकि झूठी जानकारी को फैलने से रोका जा सके.

गुरुवार को भारत सरकार ने व्हाट्सऐप को चेतावनी दी है कि अगर उसने कोई कदम नहीं उठाया तो उसे क़ानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है.

भारत व्हाट्सऐप का सबसे बड़ा बाज़ार है, यहां 20 करोड़ से ज़्यादा लोग व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करते हैं.

व्हाट्सऐप ने बताया कि भारत के लोग किसी भी दूसरे देश से ज़्यादा संदेश, फोटो और वीडियो साझा करते हैं.

अभी तक व्हाट्सऐप के ग्रुप में 256 से ज़्यादा लोग नहीं हो सकते. जिन संदेशों को हिंसा की वजह माना जा रहा है, उन्हें 100 से ज़्यादा सदस्यों वाले कई ग्रुप्स में फॉरवर्ड किया गया था.

पांच बार से ज़्यादा फॉरवर्ड नहीं

नए नियमों के मुताबिक व्हाट्सऐप की वेबसाइट पर छपे एक ब्लॉग में कंपनी ने बताया कि वो यूजर्स के लिए मैसेज फॉरवर्ड करने की सीमा तय करने की टेस्टिंग कर रही है.

भारतीय यूज़र्स के लिए संदेश फॉरवर्ड करने की सीमा और कम होगी. भारत में व्हाट्सऐप के एक प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि एक व्यक्ति एक संदेश को पांच बार से ज़्यादा फॉरवर्ड नहीं कर पाएगा.

हालांकि, ये नए नियम ग्रुप के दूसरे सदस्यों को वही मैसेज आगे पांच लोगों को फॉरवर्ड करने से नहीं रोक पाएगा.

व्हाट्सऐप को उम्मीद है कि उसके इस कदम से एक मैसेज पहले से कम लोगों तक पहुंचेंगे.

कंपनी ने ये भी कहा कि जिस संदेश में तस्वीरें या वीडियो होगा, उसके ठीक पास नज़र आने वाले "क्विक फॉरवर्ड बटन" को हटा दिया जाएगा.

Vote: 
No votes yet