ustad bade ghulam ali khan biography

He belonged to a famous classical musical gharana called Kasur Patiala Gharana of Punjab, originally of Pashtun origin. At the age of five, Ustad Bade Ghulam Khan sahib started learning vocal music from his paternal uncle Ustad KaleKhan sahib, and later from his father Ustad Ali Baksh Khansahib of Kasur Gharana.

 

उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां

उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां

 में हुआ बाद में उन्होंने अपने पिता अली बख्श खां, चाचा काले खां और बाबा शिंदे खां से संगीत के गुर सीखे। इनके पिता महाराजा कश्मीर के दरबारी गायक थे और वह घराना "कश्मीरी घराना" कहलाता था। जब ये लोग पटियाला जाकर रहने लगे तो यह घराना "पटियाला घराना" के नाम से जाना जाने लगा। अपने सधे हुए कंठ के कारण बड़े गुलाम अली खां ने बहुत प्रसिद्ध पाई। सन १९१९ के लाहौर संगीत सम्मेलन में बड़े गुलाम अली खां ने अपनी कला का पहली बार सार्वजनिक प्रदर्शन किया। इसके कोलकाता और इलाहाबाद के संगीत सम्मेलनों ने उन्हें देशव्यापी ख्याति दिलाई। उन्होंने अपनी बेहद सुरीली और लोचदार आवाज तथा अभिनव शैली के बूते ठुमरी को एकदम न Read More : उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां about उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां