मिडिया

फिज़िका माइंड पोर्टल में आपका हार्दिक स्वागत है ,फिज़िका माइंड आपका अपना वेब पोर्टल है इस वेबसाइट में आप हमें समाज से जुडी न्यूज़, कृषि से जुडी न्यूज़ , शिक्षा,समाज न्यूज़ पेपर कटिंग , न्यूज़ के विडियो क्लिप भेज सकते है समाज से जुडी सभी जानकारियो को एक ही जगह समाहित करने का प्रयास किया गया है।

Read more

घरबैठे कंप्यूटर सर्टिफिकेट कोर्स

फिजिका माइड भारत सरकार के लघुरूप सुक्षम मंत्रालय से पंजीकृत संस्था है | संस्था २००४ से सेवा में प्रयासरत है | फिज़िका माइंड के द्वारा अब आप घर बैठे कंप्यूटर के सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं जो कि आपको लेटेस्ट ज्ञान से भरपूर होगा और सबसे एडवांस टेक्नोलॉजी को आप सीखेंगे|

Read more

व्यापार में सफलता के उपाय

आप की कामयाबी को ही हम अपनी कामयाबी मानते हैं आपके व्यापार को सफल बनाने के लिए फिज़िका माइंड आपके लिए वेबसाइट और Android ऐप बनाना चाहता है , और भी बहुत सारे मार्केटिंग के उपाय हमारे पास आप के लिए हैं | हमारी सफलता का कारवां बढ़ता ही जा रहा है जिसमें आपका भी स्वागत है

Read more

आगरा का किला

आगरा का किला किसने बनवाया, आगरा का किला वीडियो, आगरा का किला वीडियो में, आगरा का लाल किला किसने बनवाया, आगरा का इतिहास, आगरा का लाल किला किसने बनवाया था, दिल्ली का लाल किला, दिल्ली का लाल किला किसने बनवाया था

आगरा का किला, इसे "लाल किला" भी कहते हैं, भारत के आगरा शहर में स्थित है। वर्ष 1983 में यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहर स्थल घोषित किया था। यह ताजमहल से करीब 2.5 किलोमीटर दूर है। वर्ष 1565 में महान मुगल सम्राट अकबर ने इसका निर्माण करवाया था। प्राचीन काल में आगरा भारत की राजधानी हुआ करता था। यह शानदार किला यमुना नदी के किनारे बना है। 380,000 वर्गमीटर ( 94 एकड़) में बना यह किला अर्द्धवृत्ताकार है। इसके चार दरवाजे हैं, किले के दो दरवाजे– दिल्ली गेट और लाहौर गेट नाम से जाने जाते हैं। Read More : आगरा का किला about आगरा का किला

यह तेल लगाएँ - सफेद बालों को जड़ से काला करें.

यह तेल लगाएँ - सफेद बालों को जड़ से काला करें.

आज कल कम उम्र मेँ ही बाल पकने, झड़ने और सफेद होने लगते है। आइए जानते हैं इस समस्या के समाधान हेतु तेल का निर्माण कैसे करना है.

सामग्री :-
अरंडी का तेल 250 ग्राम
जैतून का तेल 50 ग्राम
चन्दन कि लकड़ी का बारीक बुरादा 50 ग्राम
काँफी पाउडर 50 ग्राम।
बरगद के पेड़ कि एकदम ताजा पत्ती (बन्द वाली कोपल) 300 ग्राम
अम्बर बेल जिसको अमर बेल भी कहते हैं. 300 ग्राम (जो पीले रंग के धागे कि तरह पेड़ के ऊपर मिलती है।)

बनाने की विधि -

Read More : यह तेल लगाएँ - सफेद बालों को जड़ से काला करें. about यह तेल लगाएँ - सफेद बालों को जड़ से काला करें.>

कसूरी मेथी की खेती कैसे करे

मेथी की वैज्ञानिक खेती, बातें खेती की में मेथी, मेथी की किस्म, धनिये की खेती, हरी मेथी की खेती, पालक की खेती, मेथी की उन्नत किस्म, सोया मेथी की खेती

डाक्टर और वैज्ञानिक कई तरह की बीमारियों के इलाज के लिए भी कसूरी मेथी के इस्तेमाल की सलाह देते हैं. कई औषधीय गुणों से भरपूर इस मेथी का इस्तेमाल पुराने जमाने से ही पेटदर्द के साथसाथ कब्ज दूर करने और बलवर्धक औषधीय के रूप में होता आया है.

मेथी की बहुपयोगी पत्तियां सेहत के लिए फायदेमंद होने के साथसाथ खाने को लजीज बनाने में भी खास भूमिका निभाती हैं. खास तरह की खुशबू और स्वाद की वजह से मेथी का इस्तेमाल सब्जियों, परांठे, खाखरा, नान और कई तरह के खानों में होता है. Read More : कसूरी मेथी की खेती कैसे करे about कसूरी मेथी की खेती कैसे करे

करीपत्ता की खेती कैसे करे

करी पत्ता का दूसरा नाम क्या है, कड़ी पत्ता के नुकसान, करी पत्ता के नुकसान, कड़ी पत्ता का पेड़ कैसा होता है, करी पत्ता किसे कहते हैं, खाली पेट करी पत्ते खाने के फायदे, मीठा नीम औषधीय उपयोग, करी पत्ता बालों के लिए

कढ़ी पत्ते का पेड़ ; अन्य नाम: बर्गेरा कोएनिजी, चल्कास कोएनिजी उष्णकटिबंधीय तथा उप-उष्णकटिबंधीय प्रदेशों में पाया जाने वाला रुतासी परिवार का एक पेड़ है, जो मूलतः भारत का देशज है। अकसर रसेदार व्यंजनों में इस्तेमाल होने वाले इसके पत्तों को "कढ़ी पत्ता" कहते हैं। कुछ लोग इसे "मीठी नीम की पत्तियां" भी कहते हैं। इसके तमिल नाम का अर्थ है, 'वो पत्तियां जिनका इस्तेमाल रसेदार व्यंजनों में होता है'। कन्नड़ भाषा में इसका शब्दार्थ निकलता है - "काला नीम", क्योंकि इसकी पत्तियां देखने में कड़वे नीम की पत्तियों से मिलती-जुलती हैं। लेकिन इस कढ़ी पत्ते के पेड़ का नीम के पेड़ से कोई संबंध नहीं है। असल में कढ़ Read More : करीपत्ता की खेती कैसे करे about करीपत्ता की खेती कैसे करे

गिलोय एक बहुवर्षीय लता होती है

गिलोय के औषधीय गुण बताइए, गिलोय टेबलेट के फायदे, गिलोय चूर्ण के फायदे, गिलोय के फायदे और नुकसान इन हिंदी, गिलोय का औषधीय गुण, गिलोय के औषधीय गुण बताएं, गिलोय की लकड़ी के फायदे, गिलोय का सेवन कैसे करें

गिलोय एक बहुवर्षीय लता होती है जिसके पत्ते देखने में पान के पत्ते की तरह होते हैं. गिलोय इतनी गुणकारी होती है की इसका नाम अमृता भी रखा गया है. गिलोय वात पित्त एवं कफ का संतुलन शरीर में सही करती है जिसके परिणाम स्वरूप अनेकों रोग स्वयं ठीक हो जाते हैं. आयुर्वेदमें गिलोय को ज्वर की महानतम आयुषधि भी माना गया है. Read More : गिलोय एक बहुवर्षीय लता होती है about गिलोय एक बहुवर्षीय लता होती है

भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है

भारतीय संगीत का इतिहास, भारतीय शास्त्रीय संगीत, भारतीय शास्त्रीय संगीत परंपरा की संक्षिप्त जानकारी, भारतीय संगीत का जनक कौन है, शास्त्रीय संगीत गायक, संगीत कितने प्रकार के होते है, भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी, संगीत की उत्पत्ति कहां से हुई

भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है। सामवेद में संगीत के बारे में गहराई से चर्चा की गई है। भारतीय शास्त्रीय संगीत गहरे तक आध्यात्मिकता से प्रभावित रहा है, इसलिए इसकी शुरुआत मनुष्य जीवन के अंतिम लक्ष्य 'मोक्ष' की प्राप्ति के साधन के रूप में हुई। संगीत की महत्ता इस बात से भी स्पष्ट है कि भारतीय आचार्यों ने इसे 'पंचम वेद' या 'गंधर्व वेद' की संज्ञा दी है। भरतमुनि का 'नाट्यशास्त्र' पहला ऐसा ग्रंथ था, जिसमें नाटक, नृत्य और संगीत के मूल सिद्धांतों का प्रतिपादन किया गया था। Read More : भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है about भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है

राग मुलतानी

राग मुलतानी

राग मुलतानी
थाठ: तोड़ी वादी: प संवादी: सा जाति: औडव-संपूर्ण आरोह में रे और ध वर्जित स्वर हैं गायन समय: दिन का चौथा प्रहर स्वर:- कोमल रे, कोमल ग, तीव्र म का प्रयोग, बाकी सब स्वर शुद्ध

नीचे आप जहाँ भी ~ चिन्ह देखें, ये मीड़ दर्शाने के लिये है।
और () खटका दिखाने के लिये। अर्थात अगर (सा) दिखाया गया है तो इसे 'रे सा ऩि सा' गाया जायेगा।
राग परिचय:

आरोह: ऩि सा म॑‍~ग॒ म॑~प, नि सां।

अवरोह: सां नि ध॒ प, म॑ ग॒ म॑ ग॒, रे॒ सा।

पकड़: ऩि सा म॑~ग॒ ऽ म॑ प, म॑ ग॒ म॑ ऽ ग॒ रे॒ सा। Read More : राग मुलतानी about राग मुलतानी

खसखस की खेती कैसे करे

खसखस की खेती कैसे करे

खस की खेती एक बढ़िया फसल है, जिससे कई किसान अच्छी कमाई कर रहे हैं. इसकी खेती सरल है और मार्केट में अच्छी डिमांड भी है. खस की फसल से आप कितनी कमाई कर सकते हैं और इसकी फसल कैसे लगायें, आगे पढ़ें पूरी जानकरी. Read More : खसखस की खेती कैसे करे about खसखस की खेती कैसे करे

Pages